Tuesday, January 3, 2012

बागीचों में गुल

बागीचों में गुल और निगाहों में सपने;

जहाँ तक खिले थें, वहाँ तक ख़ुशी थी;


मुहल्लों से आगे, छतों से निकल कर;

मगर जिंदगी ये, कुछ भी नहीं थी;


मुझे थाम लेतीं जो माँ की वो बाहें ;

मुझे रोक लेतीं जो घर की वो राहें;


तो दिल क्या कभी तू ये जान पाता;

के तेरे हौसलों में कहाँ पर कमी थी;

No comments:

चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर

तू किसी शोख़ का सिंगार कर रख भी दे ये ख़ामोशी उतार कर तीरगी ये पल में टूट जायेगी  चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर एक ही नहीं कई शिकायतें ...