Friday, June 3, 2011

देखेंगे बहारें जाने दो, कब तक रुकते हैं दीवाने



देखेंगे बहारें जाने दो, कब तक रुकते हैं दीवाने............
कुछ देर यहाँ पर महफ़िल है, फिर तो होने हैं वीराने

हैं शोख नज़र के चर्चे आम, गज़लें सारी हैं साकी पर
साकी ही शायर की पूजा, जब तक खुलते हैं मैखाने

कुछ नाम जो होता तो शायद, बगिया-ऐ-मुहब्बत तक जातें
जिन गुंचा-ओ-फिजा में हीर बसे, वहाँ कौन हमे अब पहचाने?

हमसे है शिकायत यारों को, मिलना-जुलना सब बंद हुआ
कुछ वक़्त ही ऐसा है शायद, कैसा है क्यूँ है रब जाने ....


क्या नहीं खबर हमे ऐ लोगों, जो रात मचाया हंगामा
इक बूँद न पी थी ये कहने को, आये हो हमको समझाने...

4 comments:

वन्दना said...

आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
http://tetalaa.blogspot.com/

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

खूबसूरत गज़ल

lalit said...

nice one buddy...........keep it up!!

Parul said...

B'ful lines..

चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर

तू किसी शोख़ का सिंगार कर रख भी दे ये ख़ामोशी उतार कर तीरगी ये पल में टूट जायेगी  चल दोबारा ज़िन्दगी से प्यार कर एक ही नहीं कई शिकायतें ...